VPN क्या होता है। फायदा?

VPN kya hai

आज के समय में लोगों का इंटरनेट से लोकप्रियता देखते ही बनता है आज के समय में इंटरनेट कितना आगे चला गया है इसका अंदाजा लगाना आसान नहीं है बहुत से ऐसे कार्य हैं जिन्हें हम इंटरनेट पर करते हैं और वहां पर साइन इन करके अपना पर्सनल डाटा भी वहां देते हैं।

पर्सनल डाटा शेयर करने से इसका क्या खामियाजा भुगतना पड़ सकता है इसका कोई अंदाजा नहीं है आपका पर्सनल डाटा लेकर आपको कोई कैसे ब्लैकमेल कर सकता है इसके बारे में आपको कोई भनक तक नहीं होगा।

लेकिन आज के समय में पहले की तरह इंटरनेट नहीं रहा। इसके बढ़ती लोकप्रियता और ब्लैकमेल, हैकिंग जैसे मामले को देखते हुए इसके सिक्योरिटी को काफी सुदृढ़ कर दिया गया है इन मामलों से निजात पाने के लिए एक अच्छा रास्ता VPN का है जी हां VPN का।

VPN kya hai
VPN का पूरा नाम VIRTUAL PRIVATE NETWORK है। जैसा कि आपको नाम से ही पता चल गया होगा कि यह एक प्राइवेट नेटवर्क है। यह आपको इंटरनेट और वाईफाई के लिए सुरक्षित कनेक्शन बनाता है। वीपीएन का इस्तेमाल करके आप अपने पर्सनल डाटा को हैकर से बचा सकते हैं।

VPN का ज्यादातर इस्तेमाल सरकारी एजेंसी, एजुकेशन डिपार्टमेंट और ऑनलाइन काम करने वाले लोग करते हैं जिससे कि वह अपना पर्सनल डाटा सुरक्षित रख सके।

इसके अलावा एक सामान्य व्यक्ति भी VPN का यूज कर सकता है बीपीएन का काम आप इंटरनेट पर जो कुछ भी कर रहे हैं उसको सिक्योर रखना है। इसके साथ VPN का इस्तेमाल करने से सबसे बड़ा फायदा यह होता है कि आप इसके मदद से किसी बैन वेबसाइट को भी एक्सेस कर सकते हैं।

जैसे कि मान लीजिए आप इंडिया में रहते हैं और इंडिया में कोई ऐसी साइट है जो बैन है उसे आप VPN के मदद से ओपन कर सकते हैं। दरअसल जब आप अपने डिवाइस को वीपीएन से कनेक्ट करके किसी बैन साइट पर विजिट करते हैं तब बीपीएन आपके रिक्वेस्ट को उस बैन साइट के सर्वर पर भेजता है और आपको वेबसाइट खुला मिलता है।

इस बीच होता क्या है कि जब आप VPN से अपने डिवाइस को कनेक्ट करते हैं तब आपको इसमें कंट्री सेलेक्ट करने करने के लिए कहा जाता है आपको कंट्री में अपने कंट्री को छोड़कर दूसरे कंट्री को डालना होता है वह भी आप जिस वेबसाइट को ओपन करना चाहते हैं वह वेबसाइट उस देश में बैन ना हो।

जैसे आप अपने डिवाइस को वीपीएन से कनेक्ट करके वेबसाइट पर विजिट करते हैं उस साइट को यह लगता है कि विज़िटर लोकल नेटवर्क आप जिस कंट्री को VPN में सिलेक्ट किया है वहां से है।उसे लगता है कि यह लिंक किसी नार्मल सर्वर से है। जिससे आप आसानी से उस साइट को एक्सेस कर पाएंगे हैं।

VPN के बहुत सॉफ्टवेयर उपलब्ध है। जिनका उपयोग आप अपने मोबाइल, कम्प्यूटर में कर सकते हैं। वो आपको एप्प स्टोर पर मिल जायेंगे। VPN दो तरह के होते है फ्री VPN और paid VPN । जो लोग इंटरनेट का बहुत ज्यादा इस्तेमाल नही करते हो वो फ्री का VPN इस्तेमाल कर सकते हैं और अगर कोई इंटरनेट का काम ही करता हैं उसी पर हमेशा लगे रहता हैं। तो वह पैड VPN का इस्तेमाल कर सकता हैं।

इसके अलावा आप खुद का VPN बना सकते हो। अगर आपका कोई ग्रुप हो और उसमें सभी लोगो का काम इंटरनेट का हो। तो आप खुद का VPN बना कर उसका इस्तेमाल कर कर सकते हो। हैकर भी ज्यादातर खुद का VPN बनाकर हैकिंग का काम करते हैं।जिससे उनके बारे में किसी को भनक तक न हो।

VPN डाटा को इंटरनेट पर सिक्योर रखने का एक अच्छा विकल्प है। आप इसका इस्तेमाल कर सकते है।

Share

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *