MCA क्या होता है?

MCA kya hai

MCA एक पोस्ट ग्रेजुएट लेवल की डिग्री है। MCA का पूरा नाम मास्टर ऑफ कंप्यूटर एप्लीकेशन है। यह 3 साल का कोर्स होता है। यह कोर्स लगभग सभी यूनिवर्सिटी में उपलब्ध है।

अगर आप MCA करना चाहते हैं तो इसके लिए जो योग्यता है वह आपके पास होना चाहिए आपके पास ग्रेजुएशन डिग्री का होना अनिवार्य है। वह भी BCA औरया बीएससी (PCM) या बीएससी (IT) तभी आप MCA में एडमिशन ले सकते हैं इसके अलावा आपको ग्रेजुएशन में 50% मार्क लाने होते हैं।

अगर आप बीसीए करने करने के बाद MCA करना चाहते हैं। तो आपको इसके बारे में कुछ जानकारी जरूर होगा लेकिन अगर आप बीएससी (IT) या बीएससी (PCM) या बीएससी (CS) के बाद में MCA करना चाहते हैं तो आपको सबसे पहले बता दें कि ऐसे में बीसीए के तरह आपको सभी चीजें कंप्यूटर से रिलेटेड पढ़ाई जाती हैं।

यह पूरी तरह से कंप्यूटर की जानकारी पर आधारित कोर्स है। इसमें एडमिशन के लिए लगभग सभी यूनिवर्सिटी में प्रवेश परीक्षा कराया जाता है।परीक्षा पास करने के बाद ही आपको एडमिशन मिलता है।

अगर आप अपना करियर सॉफ्टवेयर इंजीनियरिंग के क्षेत्र में बनाना चाहते हैं या बैंकिंग के क्षेत्र में तो आप MCA कर सकते हैं MCA करने करके आप कंप्यूटर के क्षेत्र में काफी अच्छा जानकारी हासिल कर सकते हैं।

एमसीए करने के फायदे:-

  • अगर आप एमसीए कर लेते हैं तो आपको कंप्यूटर के क्षेत्र में काफी अच्छी-अच्छी जॉब मिल सकती है।

  • एमसीए करने के बाद भारत और विदेशों में भी आईटी कंपनियों में जॉब मिलने का अवसर बढ़ जाता है।

  • एमसीए डिग्री पाने के बाद आप बहुत से कंपनियों में आपको सॉफ्टवेयर इंजीनियर के रूप में भी जॉब मिल सकता है।

  • एमसीए करने के बाद आपको बैंकिंग क्षेत्र, शेयर बाजार, ई कॉमर्स, नेटवर्किंग आदि क्षेत्रों में भी आपको जॉब मिल सकता है।

  • एम सी ए करने के बाद जॉब आप के शैक्षिक योग्यता और कौशल पर निर्भर करता है अगर आपने MCA की पढ़ाई अच्छी से की है तो आपको ज्यादा सैलरी के साथ अच्छे अच्छे जॉब मिल सकते हैं।

  • एमसीए करने के बाद आप सॉफ्टवेयर डेवलपर भी बन सकते हैं।

मिला-जुला कर एम सी ए करने के बाद आपको कंप्यूटर के क्षेत्र में जॉब मिलने की सम्भावना बढ़ जाती है।

इससे संबंधित अगर आपकी कोई और समस्या है तो आप कमेंट में पूछ सकते है।

Share

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *