Civil Engineer क्या है। कैसे बने

Civil Engineer kaise bane

12वीं के बाद हर स्टूडेंट अपने करियर के बारे में ध्यान देना शुरू कर देते हैं। पहले भले ही करियर पर फोकस करें या ना करें लेकिन 12वीं कंपलीट करने के बाद हर एक स्टूडेंट सोचता है। कि आगे क्या करूं। किस फील्ड में अपना करियर बनाउ। आज के इस आर्टिकल में हम आपको बताने वाले हैं एक प्रोफेशनल पद के बारे में।

जी हां हम बात करने वाले हैं। Civil Engineer के बारे में की civil ingineer kya hota hai। इसके लिए क्या योग्यता है और हम कैसे एक सिविल इंजीनियर बन सकते हैं। उसके लिए आप इस आर्टिकल को ध्यान पूर्वक पढ़ते रहिए।

Civil Engineer kya hai

चलिए सबसे पहले जानते हैं कि सिविल इंजीनियर होता क्या है। आपको बता दें सिविल इंजीनियर एक इंजीनियरिंग कोर्स होता है। इस कोर्स को कंप्लीट करने के बाद आप एक सिविल इंजीनियर बन जाते हैं। सिविल इंजीनियर का काम कंस्ट्रक्शन, रोड, बिल्डिंग, घर इत्यादि चीजें बनाने का है।

मतलब सिविल इंजीनियर का काम होता है कि सड़क कैसे बनेगी, इसके लिए क्या कंस्ट्रक्शन होगा, अगर कोई घर बन रहा है। तो उसका नक्शा क्या होगा। उसके लिए कंस्ट्रक्शन क्या होगा। ऐसे बहुत से काम एक सिविल इंजीनियर के लिए होते हैं।

वैसे अगर देखा जाए तो सिविल इंजीनियर दो तरह के होते हैं। एक डिप्लोमा कोर्स पॉलिटेक्निक जैसे चीज करके बनते हैं। उन्हें (JE) जूनियर इंजीनियर बोला जाता है। और एक होता है। सीनियर सिविल इंजीनियर।

चली अब आपको इन दोनों में भिन्नता क्या है। इसके बारे में थोड़ा सा बता देते हैं। सबसे पहले जानते हैं JE यानी कि सिविल इंजीनियरिंग में जूनियर इंजीनियर को तो इसको बनने के लिए आपको दसवीं कक्षा के बाद पॉलिटेक्निक जैसे डिप्लोमा कोर्स करना पड़ता है। यह 3 साल का कोर्स होता है।

अब बात कर लेते हैं सीनियर सिविल इंजीनियर का तो इसको बनने के लिए आपको 12वीं पास करना पड़ेगा। फिर उसके बाद इस कोर्स में एडमिशन मिलेगा यह 4 साल का कोर्स होता है।

इसके बाद आप चाहे तो पोस्ट ग्रेजुएशन डिग्री मास्टर इन सिविल इंजीनियरिंग के लिए भी अप्लाई कर सकते हैं और उसमें भी एडमिशन ले सकते हैं।

सिविल इंजीनियरिंग में आपको कई तरह के विषय मिलेंगे नीचे उनके बारे में थोड़ा सा बताया गया आप अपने हिसाब से उनका चुनाव करके उसकी पढ़ाई कर सकते हैं-

Coastal Engineering

Structural Engineering

Construction Engineering

Earthquake Engineering

Etc

इन्हें भी पढ़े-

Polytechnic क्या है। पूरी जानकारी

IIT क्या है। पूरी जानकारी।

योग्यता:-

चलिए अब आपको बता देते हैं कि सिविल इंजीनियर बनने के लिए आपके पास क्या योग्यता होनी चाहिए-

– सिविल इंजीनियर बनने के लिए सबसे पहले आपको 12वीं क्लास पास करना होगा। याद रखे 12वीं में आपके पास फिजिक्स, मैथ, केमिस्ट्री जैसे सब्जेक्ट होने चाहिए।

– सिविल इंजीनियर बनने के लिए 12वीं में कम से कम 60% मार्क लाना जरूरी होता है। जिससे IIT या AIEEE के द्वारा आप सिविल इंजीनियर कोर्स में एडमिशन ले सकते हैं।

– अगर आप डिप्लोमा करके जूनियर सिविल इंजीनियर बनना चाहते हैं। तो कम से कम आपको दसवीं पास करना होगा।

Civil Engineer kaise bane:-

चलिए अब आपको बताते हैं कि सिविल इंजीनियर बनने के लिए आपको क्या कुछ करना पड़ेगा।

12वीं पास करे:-

सबसे पहले आप 12वीं तक अपना पढ़ाई पूरा करें याद रखें कि आपको 12वीं में फिजिक्स, केमिस्ट्री, मैथ जैसे सब्जेक्ट लेना जरूरी है। और 12वीं क्लास में आपको अच्छे खासे मार्क्स भी लाने कम से कम 60% तभी आप सिविल इंजीनियर के योग्य होंगे।

अगर आप डिप्लोमा से सिविल इंजीनियरिंग करके JE बनना चाहते हैं तो 10वीं पास होने के बाद आप polytechnic कोर्स के लिए अप्लाई कर सकते हैं।

एंट्रेंस एग्जाम निकाले:-

12वीं कंप्लीट कर लेने के बाद अब आपको सिविल इंजीनियरिंग कोर्स करने के लिए एंट्रेंस एग्जाम देना होगा जो कि IIT, AIEEE या B.tech के रूप में होता है। यह सब एग्जाम का टफ होते हैं। और बहुत सारे बच्चे इस एग्जाम में पार्टिसिपेट भी करते हैं। याद रखें इन एग्जाम को क्लियर करना आसान नहीं होता। बहुत अधिक मेहनत करनी पड़ती है इस परीक्षा को पास करने के लिए।

काउंसलिंग करें:-

एंट्रेंस एग्जाम क्वालीफाई हो जाने के बाद अब आपको काउंसलिंग करना पड़ता है। जिससे आप के मार्क्स के हिसाब से आपको कॉलेज मिलता है। आपको बता दें आपका जितना अधिक मार्क होगा। उतना ही आपको अच्छा कॉलेज मिलेगा इसलिए कोशिश करें अच्छा से अच्छा मार्क्स लाने का।

कोर्स कंप्लीट करें:-

काउंसलिंग करने के बाद आपको कॉलेज मिल जाता है। अब कॉलेज मिल जाने के बाद आपको 4 साल का सिविल इंजीनियरिंग कोर्स पूरा करना पड़ेगा। आप इसमें पूरी मेहनत करके पढ़ाई करें। यही से आपके उज्जवल भविष्य की शुरुआत होती है।

इंटरशिप करें:-

जब आपको सिविल इंजीनियरिंग करने के बाद इसकी डिग्री मिल जाए। तब आपको इंटरशिप करना चाहिए चलिये अब आपको थोड़ा सा इंटरशिप के बारे में भी बता देते हैं। अगर आप इंटरशिप कर लेंगे तो सिविल इंजीनियरिंग के बारे में थोड़ा सा एक्सपीरियंस हो जाता है। जो कि कंपनी में जॉब पाने के लिए बहुत जरूरी है। इसलिए इंटरशिप जरूर करें।

अब आप इसके बाद लाइसेंस व् सर्टिफिकेट के लिए भी अप्लाई कर सकते हैं। जिससे आप सर्टिफिकेट पर सिविल इंजीनियर बन जाएंगे। इसके बाद आपको किसी कंपनी में सिविल इंजीनियरिंग का जाब भी मिल जाएगा।

याद रखें:-

सिविल इंजीनियरिंग कोर्स इतना आसान नहीं है। अगर आप एंट्रेंस एग्जाम क्लियर करके इसका कोर्स कर रहे हैं। तो आपको पूरी मेहनत करके पढ़ाई करनी होगी। और कॉलेज में अच्छे मार्क्स भी लाने होंगे तभी आप एक कामयाब सिविल इंजीनियर बन पाएंगे।

इस गलतफहमी में नहीं रहिएगा की इंट्रेंस एग्जाम क्लियर होने के बाद आप मौज मस्ती से सिविल इंजीनियरिंग कोर्स का पढ़ाई करके एक सिविल इंजीनियर बन जाएंगे। ऐसा कुछ नहीं होने वाला है। बहुत से लोग ऐसे हैं जो डिग्री लेकर घूमते हैं।

आप अपने आसपास प्राइवेट कॉलेज में घुस देकर सिविल इंजीनियरिंग कोर्स करके सिविल इंजीनियर बनने की कोशिश ना करें। क्योंकि इससे तो आपको सर्टिफिकेट मिल जाएगी। लेकिन जॉब नहीं मिलेगा। इसलिए अच्छे से इसकी पढ़ाई करें। अगर आपको सिविल इंजीनियर बनना है।

उम्मीद करता हूं। कि यह आर्टिकल पढ़कर एक Civil Engineer kaise bane के बारे में पूरी जानकारी समझ में आ गई होगी। अगर आपका इससे संबंधित कोई और समस्या है तो उसे आप नीचे कमेंट में पूछ सकते हैं।

Share

About Amit Maurya

मेरा नाम अमित मौर्या है। मैं उत्तर प्रदेश के गोरखपुर जिले से हू। मेरा बचपन से शौक था कि दूसरों की मदद करू। जो मैं एक ब्लॉगर के रूप में कर रहा हू।

View all posts by Amit Maurya →

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *