Backlink क्या होता है। इसका क्या फायदा है।

अगर आप एक नए ब्लॉगर होंगे तो आपको Backlink के बारे में सुनने के लिए जरूर मिला होगा ऐसे में अब आपके मन में यह सवाल उठता होगा कि Backlink kya hota hai इस आर्टिकल में हम आपको यही बताने वाले हैं कि Backlink kya hota hai इसके क्या फायदे हैं। और क्या बैकलिंक हमारे ब्लॉक के लिए होना जरूरी है।

Backlink kya hota hai

Backlink आपके द्वारा बनाया गया एक ऐसा लिंक होता है जिसके माध्यम से किसी दूसरे वेबसाइट के विजिटर आपके वेबसाइट पर आप आते हैं। जैसे कि मान लीजिए आपके ब्लॉग का लिंक किसी दूसरे ब्लॉग पर दी गई है। अगर उस साइट का विजिटर चाहेगा आपकी साइट पर आना तो वह उस लिंक को क्लिक करके डायरेक्ट आपके साइट पर आ सकता है।

अब तक आप को पता चल गया होगा कि आखिरकार Backlink क्या होता है। चलिए अब आप को बताते हैं इससे कुछ जुड़ी जानकारियां-

बैकलिंक कितने प्रकार के होते हैं

Link juice

जब कोई दूसरा वेबसाइट आपके साइट के आर्टिकल का या वेबसाइट का लिंक अपनी साइड से लिंक करता है तो इसे लिंक जूस कहते हैं।


Internal link

यह वह लिंक होती है जो आप अपने आर्टिकल में आप अपनी किसी दूसरे आर्टिकल का लिंक देते हैं। तो इसे इंटरनल लिंक कहते हैं।

External link

यह वह लिंक होता है जो आप अपने आर्टिकल में किसी दूसरे साइड का लिंक देते हैं। इसे एक्सटर्नल लिंक कहते हैं।

Low Quality link

यह वह लिंक होती है जो एडल्ट साइट या स्पैम के रूप में आपके साइट पर आती है। इसे लो क्वालिटी लिंक कहते हैं।

High Quality link

यह वह लिंक होती है जो बड़ी-बड़ी साइटों द्वारा मिलती है जैसे गूगल, फेसबुक इत्यादि साइट से हाई क्वालिटी बैकलिंक मिलता है। इसे हाई क्वालिटी बैकलिंक कहते हैं।

Do Fallow Backlink

यह ऐसा लिंक होता है जो आप अपने ब्लॉग में ऐड करते हैं यह लिंक जूस को पास करता है। इसे डू फॉलो बैकलिंक कहते हैं। इसे rel=”Nofallow” टैग द्वारा लिखते हैं।

No Fallow Backlink

यह ऐसा लिंक होता है जो आपके लिंक जूस को पास नहीं करता है। इसे नो फॉलो बैक लिंक कहते हैं नो फॉलो बैक लिंक बनाने के लिए rel=”Nofallow” टैग का इस्तेमाल किया जाता है।

बैकलिंक के फायदे

किसी वेबसाइट के पास ढेर सारा बैक लिंक होने से क्या फायदा होता है चलिए इसके बारे में आपको बताते हैं-

रेफरल ट्रैफिक

वेबसाइट का बैकलिंक होने से सबसे बड़ा फायदा रेफरल ट्रैफिक मिलता है। जिससे आपके साइट का ट्रैफिक बढ़ता है रिफेरल लिंक होने से दूसरे साइट के विजिटर चाहे तो आपके साइट पर डायरेक्ट आ सकते हैं।

फास्ट इंडेक्सिंग

साइट का बैकलिंक होने से साइट के आर्टिकल को सर्च इंजन में फास्ट इंडेक्स कराने में भी मदद मिलेगी। बैकलिंक से सर्च इंजन बोट को हमारी साइट के लिंक को क्रॉल करने में मदद मिलती है। जिससे हमारी पोस्ट जल्दी इंडेक्स हो जाती है।

रिलेशनशिप

साइट का बैकलिंक होने से रिलेशनशिप बढ़ती है। जो ब्लॉक को सफल बनाने के लिए बहुत जरूरी होती है।

रैंकिंग इम्प्रूव

साइट का बैकलिंक होने से गूगल जैसे सर्च इंजन में वेबसाइट की रैंकिंग इंप्रूव होती है। अगर आपके साइट का रैंकिंग सर्च इंजन में बढ़ेगी तो आप अंदाजा लगा सकते हैं की आपके साइट को कितना फायदा मिलेगा

चलिये अब आपको बताते हैं कि क्या बैंकलिंक साइट के लिए होना जरूरी होता है। अगर आप अपने साइट के लिए बैंकलिंक बनाते हैं तो आपकी SEO काफी ज्यादा इम्प्रूव होती है। और अगर आपकी SEO अच्छी होगी। तो ट्रैफिक का क्या कहना। ढेर सारा ट्रैफिक आना शुरू हो जाएगा।


SEO किसी साइट के लिए इतना जरूरी होता है जैसे कि एक शरीर के लिए प्राण। अगर शरीर में प्राण ना रहे तो शरीर का कोई मतलब नहीं होता उसी तरह साइट के लिए SEO ना हो तो उसका क्या फायदा। SEO के लिए बैकलिंक बहुत मायने रखता है। इसलिए आप अपने साइट के लिए जितना हो सके उतना बैंकलिंक बनाइए।

कैसे बनाएं

कमेंट

बैकलिंक बढ़ाने का सबसे अच्छा तरीका कमेंट का है। आप पता करें कि कौन सा साइड डू फॉलो बैक लिंक देता है वहां जाकर कमेंट करना शुरू करें।

गेस्ट पोस्ट

बैकलिंक बढ़ाने का यह एक अच्छा तरीका है इस समय डू फॉलो बैक लिंक पाने के लिए अधिकतर ब्लॉगर यही करते हैं। इससे डू फॉलो बैकलिंक मिलता है। आप किसी पापुलर ब्लॉग पर गेस्ट पोस्ट देकर वहां से बैकलिंक के साथ ढेर सारा ट्रैफिक भी ले सकते हैं।

ब्लॉक को वेब डायरेक्शन में सबमिट करें

बैकलिंक पाने का सबसे पुराना तरीका है वेब डायरेक्शन में ब्लॉग सबमिट करके आप बैकलिंक पा सकते हैं। ब्लॉग सबमिट के समय आपको ध्यान देने की जरूरत है कि यह लीगल है। या नहीं। क्योंकि कई बार स्पैम भी होता है।

अब तक लगभग आपको बैकलिंक से जुड़ी सभी सवालों का जवाब मिल गया हो। अगर अभी भी आपका कोई डाउट है। तो उसे कमेंट द्वारा पूछ सकते हैं।

Share

About Amit Maurya

मेरा नाम अमित मौर्या है। मैं उत्तर प्रदेश के गोरखपुर जिले से हू। मेरा बचपन से शौक था कि दूसरों की मदद करू। जो मैं एक ब्लॉगर के रूप में कर रहा हू।

View all posts by Amit Maurya →

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *